लॉगिन करेंरजिस्ट्रेशन

फीचर्ड ब्लॉग

Click_Click_Click_Camera_by_g_i_l_l_i

एक फोटो का सवाल है साधो!

17 April, 2014

आप सोच रहे होंगे कि ब्लॉग टीम को भला यह पोस्ट लिखने की क्या जरूरत पड़ गई। ब्लॉग टीम और स‌ुधी ब्लागरों के बीच यह पहला अनौपचारिक संवाद है। दरअसल अमर उजाला ब्लॉग टीम को उन सभी ब्लागरों के साथ चर्चा की जरूरत महसूस हो रही थी जो अपने ब्लॉग पोस्ट के साथ फोटो अटैच …और पढ़ें

द्वारा:ब्लॉग टीम

प्रतिक्रिया:

0 »

Sanjaya

नमक का नया दारोगा

17 April, 2014

फ्रांस में कहावत है- कभी-कभी सच्चाई बहुत असंभव प्रतीत हो सकती है और इसके ठीक उल्ट कई बार ऐसी असंभव बात भी सच प्रतीत हो सकती है जो कभी हुई न हो। अर्थात कुछ ऐसे झूठ होते हैं जो कि इसलिए सत्य मान ल‌िए जाते हैं क‌ि सभी लोग यह सोचते हैं कि वहां ऐसा …और पढ़ें

द्वारा:सुधीर राघव
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

3 »

spiritual-development

असत्य के शोर में सत्य के प्रयोग

15 April, 2014

चुनावी खिड़की देहरादून के परेड ग्राउंड में इस समय उत्तरांचल ट्रेड फेयर चल रहा है। यहां घूमने आया तो एक  किताब की दुकान पर पहुंच गया। तमाम पुस्तकों के ढेर में महात्मा गांधी की आत्मकथा सत्य के प्रयोग पर निगाह चली गई। इस किताब को बहुत दिनों से पढ़ना चाह रहा था कि लेकिन संयोग …और पढ़ें

टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

2 »

अमर उजाला ब्लॉग

manmohan-sonia

कठपुतली का खेल और पारसी ड्रामा

16 April, 20144 प्रतिक्रियाएँ »

संजय बारू की पुस्तक द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर ने सिर्फ उस घटनाक्रम को प्रस्तुत किया है जो एक झीने परदे के पीछे से घटित हो रहा था। कांग्रेस, पीएमओ और अब मनमोहन सिंह की बेटी उपिंदर कौर का बारू की कृति को तथ्यहीन ठहराना और विश्वासघात बताना पारसी थिएटर के ड्रामे से इतर कुछ नहीं। …और पढ़ें

द्वारा:Shyamakant
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

4 »

arvind kejriwal slapped - PTI_0

इस थप्पड़ को हल्के में न लें

10 April, 201427 प्रतिक्रियाएँ »

पिछले कुछ समय से नेताओं पर लगातार हो रहे हमलों को किसी को भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। यह लोकतंत्र की निराशा और हताशा का प्रतीक है। यह उस झूठे वादे के गुस्से का प्रतीक है, जो नेताओं ने जनता को बेवकूफ बनाने के लिए किए हैं। भूपेंद्र सिंह हुडड्डा से लेकर केजरीवाल पर …और पढ़ें

द्वारा:अंतिमा सिंह
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

27 »

DSC_0081

अब दिलों पर पानी है विजय

8 April, 20143 प्रतिक्रियाएँ »

नरेंद्र मोदी की सेना में वाकई 56 इंच चौड़े सीने वाले – जनरल वीके सिंह प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी अब फख्र से कह सकते हैं कि उनकी सेना में साथी भी 56 इंच चौड़े सीने वाले हैं। यहां बात हो रही है जनरल वीके सिंह यानि विजय कुमार सिंह की। 63 की उम्र …और पढ़ें

टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

3 »

... और अमर उजाला ब्लॉग पढें

रीडर्स ब्लॉग

abp

मोदी समर्थन या मोदी विरोध

17 April, 20144 प्रतिक्रियाएँ »

चुनाव का मिजाज़ अजीब हो चला है, सिर्फ एक शख्स ने इसे अपने रंग में ऐसे रंग डाला है कि हर हर मोदी-घर घर मोदी … पक्ष में मोदी तो विपक्ष में मोदी, भाजपा में मोदी तो कांग्रेस, सपा, बसपा, राजद, जद यू में मोदी … और यह तो सर्व विदित है कि जब क्रिया …और पढ़ें

द्वारा:ashfaqahmad
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

4 »

manmohan-sonia

कठपुतली का खेल और पारसी ड्रामा

16 April, 20144 प्रतिक्रियाएँ »

संजय बारू की पुस्तक द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर ने सिर्फ उस घटनाक्रम को प्रस्तुत किया है जो एक झीने परदे के पीछे से घटित हो रहा था। कांग्रेस, पीएमओ और अब मनमोहन सिंह की बेटी उपिंदर कौर का बारू की कृति को तथ्यहीन ठहराना और विश्वासघात बताना पारसी थिएटर के ड्रामे से इतर कुछ नहीं। …और पढ़ें

द्वारा:Shyamakant
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

4 »

Congress-BJP-34364

एक रीढ़ वाले पीएम की जरूरत है……

16 April, 20143 प्रतिक्रियाएँ »

अँबानी हो, अडानी हो या टाटा-बिड़ला हो… मेरी नजर मेँ हर प्रदेश मेँ सरकार के पास ऐसे उद्योगपतियोँ का एक समूह होना चाहिए…. मत भूलिए गाँधी जी ने भी अपने आँदोलन की धार तेज करने के लिए पूँजीपतियो को हमेशा अपने साथ रखा… और देश हित मेँ जब युवा विदेश से पढ़कर भारत आते तो …और पढ़ें

द्वारा:Rohit Srivastava
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

3 »

bastar

बस्तर की स्थिति से देश ‘नावाकिफ’

16 April, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

छत्तीसगढ़ का बस्तर अपनी नैसर्गिक सुंदरता के लिए विश्व प्रसिद्ध यहां की अनूठी संस्कृति और प्राकृतिक सौन्दर्य किसका न मन मोह लें। पर यहां इन दिनों लाल आतंक से धरती लाल हो रही है। 12 अप्रैल 2014 को बस्तर जिले के दरभा क्षेत्र से केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 80 वीं बटालियन के 10 जवान …और पढ़ें

द्वारा:ramesh pandey
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

0 »

गूगल से साभार

“आलोचक-आपका मार्गदर्शक “

16 April, 20143 प्रतिक्रियाएँ »

एक धनवान व्यक्ति भेंगा था. उसे अपनी आंखों के दोष का पता न था. एक दिन उसने दर्पण में देखा कि उसकी आंखों की बनावट दूसरे व्यक्तियों से भिन्न तथा खराब है. उसे लगा दर्पण खराब है. दूसरे दर्पण में देखा, उसमें भी आंखों में दोष दिखायी दिया. उस व्यक्ति को क्रोध आ गया. जिस …और पढ़ें

द्वारा:Vikram Ghosh
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

3 »

... और रीडर्स ब्लॉग पढें