लॉगिन करेंरजिस्ट्रेशन

फीचर्ड ब्लॉग

joyti-murder-case-53d7437d3b270_exlst

“कानपुर की ज्योति”

1 August, 2014

एक नहीं,अनेक ज्योति जग के गहन तम में विलीन हो रही हैं | शर्मशार मानवता,मिट रही सभ्यता,हर राह पर नारी कट रही हैं || पैसों के ढेर पर सोया हुआ मानव,दानव बन गया | सती साध्वी को अपमानितकर,धुंधकारी हो गया || गोकर्ण जी महाराज तो,स्वर्गारूढ़ हो गए | पैसे के मद में ,जग में सब  …और पढ़ें

द्वारा:P K DUBEY
टॉपिक:विचार

प्रतिक्रिया:

0 »

Sad-Lights

अंधेरी गुफा में गुम खुशी…

29 July, 2014

- पांच सौ रुपये के चाय-समोसे करा दिए। उस आदमी को हजार रुपये दे दिए जबकि गलती उसकी ही थी। ये सब क्या है? – मदद। बल्लू ने दीक्षा से कहा और कार को अपने घर की तरफ जाने वाले रास्ते पर मोड़ दी। – ऐसे तो देश में गरीबों की कमी नहीं है। मदद …और पढ़ें

टॉपिक:कला

प्रतिक्रिया:

5 »

modi

अब पीएम नरेंद्र मोदी की बारी

28 July, 2014

देशवासियों को सपने दिखाकर अपना सपना पूरा करने वाले नरेंद्र मोदी अगर यूं ही चुप्पी साधे रहे तो वह दिन दूर नहीं जब उनमें और उनके पूर्ववर्तियों में कोई अंतर नहीं रहेगा. माना प्रधानमंत्री पद की गरिमा को बनाए रखने के लिए कुछ कायदे-कानून होगे. लेकिन नरेंद्र मोदी के जिस अंदाज और जज्बे को लेकर …और पढ़ें

द्वारा:Harish Bhatt
टॉपिक:समाज

प्रतिक्रिया:

0 »

अमर उजाला ब्लॉग

muslim

रोजे में रोटी और कबीर का कत्ल

24 July, 201412 प्रतिक्रियाएँ »

आरोप है कुछ सलीकेदारों ने दूसरों को खाना बनाने का सलीका सिखाने के लिए एक रोजेदार के मुंह में रोटी ठूस दी। कई लोगों की ठंडी पड़ी सियासी तंदूर फिर भभक उठी है। जाहिर है घटना निंदनीय है। आजाद और जम्हूरी हिंदोस्तान में इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती। आरोप शिवसेना के नेताओं पर हैं …और पढ़ें

द्वारा:kumar atul
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

12 »

1942

बालीवुड में छायावाद-4

24 July, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

साठ के दशक में रहस्य-रोमांच पर आधारित फिल्मों का एक दौर आया जिसमें फिल्म की कामयाबी की कहानी उनके गीतों ने लिखी। वह कौन थी फिल्म के गीत राजा मेहंदी अली खां ने लिखे थे। वह अदालत जैसी बेहद हिट फिल्मों के मकबूल गाने लिख चुके थे। लेकिन इस फिल्म में भटकती रूह के किरदार …और पढ़ें

द्वारा:kumar atul
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

0 »

rehadi

आदमी का कोल्हू का बैल हो जाना…

18 July, 201414 प्रतिक्रियाएँ »

शमेर घर से निकल कर रेहड़ी लेकर गांव से बाजार को जाने वाले रास्ते पर आया ही था कि एक बिल्ली दाएं से बाएं निकल गई। शमेर का पैर पैंडल पर ही रुक गया। उसने बिल्ली को एक भद्दी गाली दी। फिर खुद से सवाल किया कि पता नहीं आज क्या होगा? वह रेहड़ी पर …और पढ़ें

टॉपिक:विचार

प्रतिक्रिया:

14 »

... और अमर उजाला ब्लॉग पढें

रीडर्स ब्लॉग

giclee_print_rainbow_tree_abstract_8_x_10_art_print_365f8ec8

कब मिलेगा फरीदा को न्याय

1 August, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

करंट से बालक की मौत   मकान में उतरा करंट, फुफेरी बहन झुलसी, लोगों ने जाम लगाया अमर उजाला ब्यूरो खतौली। बरसात के दौरान अचानक हाईटेंशन लाइन का करंट मकान में दौड़ जाने से मासूम बालक की मौत हो गई, जबकि उसकी फुफेरी बहन झुलस गई। बालक की मौत से गुस्साए लोगों ने बिजली विभाग …और पढ़ें

प्रतिक्रिया:

0 »

Premchand_4_a

प्रेमचंद यूं बने मुंशी प्रेमचंद

31 July, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

आमतौर पर कई बार ऐसा देखने में आता है कि लोग अपने मूल नाम से अधिक उपनाम से अधिक जाने जाते हैं, तो किसी का सरनेम या उपनाम इस कदर हावी हो जाता है कि मूल नाम कहीं नेपथ्य में चला जाता है। उपन्यास सम्राट प्रेमचंद के साथ भी कुछ ऐसा भी हुआ था। वरिष्ठ …और पढ़ें

द्वारा:manglammk
टॉपिक:साहित्य

प्रतिक्रिया:

0 »

images (4)

ईद मुबारक

30 July, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

पाक परवरदिगार का दिन है ईद; अल्लाह में रम जाने का दिन है ईद, खुदा की दुआओं का दिन है ईद, पूरी होती मन्नतो का दिन है ईद, पाक परवरदिगार का दिन है ईद; बिछड़ो को मिलाने का दिन है ईद, गिले शिकवे मिटाने का दिन है ईद, दोस्तों संग खुशियाँ मनाने का दिन है, …और पढ़ें

द्वारा:vandanasingh
टॉपिक:समाज

प्रतिक्रिया:

0 »

aa1

टोटकों का वैज्ञानिक आधार

30 July, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

गोपाल राजू (वैज्ञानिक)                      टोटका वह विज्ञान है जिसके संतुलित, समयबद्ध और निरन्तर प्रयोग करते रहने से समस्याओं का निराकरण संभव हो सकता है। जो बातें हमारा कार्य सिद्ध करवा देतीं है तथा हमारी समझ से बाहर हैं, उन्हें हम अलौकिक, गुहय आदि कह देते हैं। अलौकिक अर्थात् जो हमारे लोक की न हो। ऐसे …और पढ़ें

द्वारा:Gopal Raju
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

0 »

MAA

मेरी प्यारी माँ

30 July, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

////…. मेरी प्यारी माँ …….///// मेरी माँ ने मुझे अपनी सारी खुशियाँ सौप दी , अगर भूलूँ में उसे तो जी न पाऊं ! गुजार दूं अगर सारी जिंदगी उसके कदमो में  तो भी उसका हक अदा कर न पाऊं ! ऐ खुदा तू भी तो उसका एक बच्चा है, . तू ही इस जहाँ …और पढ़ें

टॉपिक:विचार

प्रतिक्रिया:

0 »

... और रीडर्स ब्लॉग पढें