फीचर्ड ब्लॉग

images

अमर प्रेम की पवित्र डोर

26 August, 2015

  रक्षा बंधन का पर्व भाई बहन का गर्व , निश्छल पवित्र प्रेम का अमर रिश्ता बहन भाई की कलाई में राखी.बांधते हुए कहती है, भाई ये जो राखी है ,ये कोई साधारण सूत्र नही इस राखी में मैंने स्वच्छ पवित्र प्रेम के मोती पिरोये हैं , सुनहरी चमकीली इस रेशम की डोर में , …और पढ़ें

द्वारा:Ritu Asooja

प्रतिक्रिया:

2 »

images (7)

मेरे देश की माटी सोना

14 August, 2015

मेरे देश की माटी सोना …आनन्द विश्वास  मेरे  देश  की  माटी  सोना, सोने का  कोई काम ना, जागो   भैया   भारतवासी,  मेरी   है   ये   कामना। दिन तो  दिन है  रातों को  भी थोड़ा-थोड़ा जागना, माता  के  आँचल  पर  भैया,  आने  पावे  आँच  ना। अमर धरा के  वीर सपूतो, भारत माँ  की  शान तुम, माता  के  नयनों …और पढ़ें

द्वारा:Anand Vishvas
टॉपिक:साहित्य

प्रतिक्रिया:

0 »

radhe maa

राधे मां….और आस्था पथ पर रसिकों की धारा 144

14 August, 2015

इतना पतन तो कभी न हुआ। ऐसे-ऐसे बोल। घिन आती है। मां तो मां होती है। चाहे जो पहने। खोट तो देखने वाले की नीयत का है। इन दिनों जब से राधे मां चर्चा में आईं, एक भइये का दुख बढ़ गया है। कहते हैं-आस्था का ऐसा संक्रमण काल तो कभी नहीं देखा। आस्था पथ …और पढ़ें

द्वारा:Anil Kumar Singh 'Somvanshi'

प्रतिक्रिया:

0 »

अमर उजाला ब्लॉग

पिया हमहूं लड़ब परधानी हो… (पार्ट-4)

1 September, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

(सुंदरपुर में इंजीनियर के यहां सत्यनारायण भगवान की कथा है। बिरादरी-गैर बिरादरी का भोज है। सब कयास लगा रहे हैं। सबसे बड़ा सवाल है-क्या इंजीनियर भी प्रधान पद के लिए चुनाव में ताल ठोकेंगे। अभी सब कुछ हवा में है। पर, उनको लेकर खेमेबंदी का दौर शुरू हो गया है। अब आगे….) इंजीनियर के द्वार …और पढ़ें

द्वारा:Anil Kumar Singh 'Somvanshi'

प्रतिक्रिया:

0 »

पिया हमहूं लड़ब परधानी हो… (पार्ट-3)

29 August, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

(सुंदरपुर बदल गया है। पंचायत चुनाव की भले ही तारीखें तय न हुई हों, पर यहां पाले खिंचने लगे हैं। एक इम्तिहान शुरू है। इस इम्तिहान में अपने-पराये की परख हो रही है। खेमेबंदी हो रही है। दुश्मनी-दोस्ती का सिजरा खंगाला जा रहा है। विरोधियों के लिए नए-नए उपनाम जिसे अंग्रेजीदां निकनेम कहते हैं, बड़ी …और पढ़ें

द्वारा:Anil Kumar Singh 'Somvanshi'

प्रतिक्रिया:

0 »

Avika-Gor-Latest-Stills-06

जब भी देखती हूं, मुझे दुख होता है.

26 August, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

….. मासूम सी दिखने वाली अविका गौर उर्फ आनंदी आजकल कहां खो गई है। मैं जब भी उसे टीवी पर देखती हूं तो बहुत दुख होता है। एक समय था जब अविका को उनके असल नाम से शायद ही कोई जानता था, हर कोई आनंदी या बालिका वधू ही कहता था, यहां तक की घरों …और पढ़ें

द्वारा:अंतिमा सिंह
टॉपिक:कला

प्रतिक्रिया:

0 »

... और अमर उजाला ब्लॉग पढें

रीडर्स ब्लॉग

पिया हमहूं लड़ब परधानी हो… (पार्ट-4)

1 September, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

(सुंदरपुर में इंजीनियर के यहां सत्यनारायण भगवान की कथा है। बिरादरी-गैर बिरादरी का भोज है। सब कयास लगा रहे हैं। सबसे बड़ा सवाल है-क्या इंजीनियर भी प्रधान पद के लिए चुनाव में ताल ठोकेंगे। अभी सब कुछ हवा में है। पर, उनको लेकर खेमेबंदी का दौर शुरू हो गया है। अब आगे….) इंजीनियर के द्वार …और पढ़ें

द्वारा:Anil Kumar Singh 'Somvanshi'

प्रतिक्रिया:

0 »

पिया हमहूं लड़ब परधानी हो… (पार्ट-3)

29 August, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

(सुंदरपुर बदल गया है। पंचायत चुनाव की भले ही तारीखें तय न हुई हों, पर यहां पाले खिंचने लगे हैं। एक इम्तिहान शुरू है। इस इम्तिहान में अपने-पराये की परख हो रही है। खेमेबंदी हो रही है। दुश्मनी-दोस्ती का सिजरा खंगाला जा रहा है। विरोधियों के लिए नए-नए उपनाम जिसे अंग्रेजीदां निकनेम कहते हैं, बड़ी …और पढ़ें

द्वारा:Anil Kumar Singh 'Somvanshi'

प्रतिक्रिया:

0 »

hindu-muslim

” ये एच.एम् क्या है ?”लघु कथा

26 August, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

” ये एच.एम् क्या है ?”लघु कथा DO NOT COPY     रात के आठ बजे ‘चोर..चोर..चोर ‘ का शोर सुनते ही गली के सभी लोग घरों से बाहर निकल आये .शर्मा जी ने एक किशोर का कॉलर कसकर पकड़ रखा था .शर्मा जी का चेहरा गुस्से से लाल था .अग्रवाल साहब उनके समीप पहुँचते …और पढ़ें

प्रतिक्रिया:

0 »

sc

संविधान पीठ के हवाले -सुप्रीम कोर्ट के सवाल-कानूनी स्थिति प्रश्न -3

26 August, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

प्रश्न -३ -जहाँ पर राज्य और केंद्र दोनों सरकारों को कानून में माफ़ी देने का हक़ हो वहां क्या सी.आर.पी.सी.की धारा ४३२ [७] के तहत केंद्र सरकार को प्राथमिकता दी गयी है और राज्य को बाहर कर दिया गया है ? कानूनी स्थिति -धारा ४३२[७] कहती है – [७] -इस धारा में और धारा ४३३ …और पढ़ें

प्रतिक्रिया:

0 »

INDIAN-MEDIA

मीडिया कॉर्पोरेट घरानों को बिका

26 August, 2015कोई प्रतिक्रिया नहीं »

  कांग्रेस के चुनाव प्रचार अभियान में मिडिल क्लास गायब, नेता नाखुश लोकसभा चुनाव २०१४ का निर्णय अभी आना शेष है किन्तु  जिस तरह से मीडिया द्वारा कांग्रेस विरोधी और मोदी के पक्ष में प्रचार किया जा रहा है उससे ये तो साफ़ हो ही गया है कि इस बार के चुनाव केवल और केवल मीडिया …और पढ़ें

टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

0 »

... और रीडर्स ब्लॉग पढें