लॉगिन करेंरजिस्ट्रेशन

फीचर्ड ब्लॉग

jayalalithaa

18 साल-देर आए दुरुस्त आए !

29 September, 2014

23 साल पहले 1991 में जब जयललिता तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनती हैं, तो ऐलान करती हैं कि वे बतौर मुख्यमंत्री सिर्फ एक रूपया वेतन लेंगी। अमूमन किसी राजनेता के मुंह से ऐसी बात कम ही सुनने को मिलती हैं, लेकिन जब जयललिता ने ये ऐलान किया तो, इस कदम की खूब तारीफ भी हुई थी। …और पढ़ें

द्वारा:Deepak Tiwari
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

0 »

gandhi

नेता झाड़ू लगाएगा

29 September, 2014

नेता ने ठान लिया है कि वह महात्मा गांधी बनेगा। भारत में बहुत गंदगी है। गांधी ने अंग्रेजों से जंग लड़ी। नेता गंदगी से जंग लड़ेगा। गंदगी की वजह से विदेशी न‌िवेशकों पर बुरा असर पड़ता है। दुर्गंध से निवेशक भाग जाता है। न‌िवेशक को रोकना है तो सफाई करनी होगी। नेता का कान्फ‌िडेंस सातवें …और पढ़ें

द्वारा:सुधीर राघव
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

9 »

domestic-violence-man-depression-53e786888479c_exlst

रिश्तों की एक्सपायरी डेट

28 September, 2014

ऐसा पहली बार हुआ है कि लगातार कई रातों को मैं सो नहीं सका। चाह कर भी नींद नहीं आई और मैं यूं ही करवटें बदलता रहा। इतना परेशान तो मैं तब नहीं हुआ था जब होना चाहिए था। ये किस चीज की टेंशन है जो मुझे खाए जा रही है? आखिर बात क्या है …और पढ़ें

टॉपिक:कला

प्रतिक्रिया:

1 »

अमर उजाला ब्लॉग

beautiful-indian-girl26

तुम्हारी नजरों का जाम….

26 September, 20141 प्रतिक्रिया »

सांवरी शाम कोई पैगाम ले के आई है तुम्हारी नजरों का जाम ले के आई है ये तन्हाइयां खुशगवार कर गई हैं हमें वो भी तो तेरा नाम ले के आई है हम तो ‘तपती’ हुई  बर्फ के मारे हैं बहुत खुश हैं कि गर्दिश में सितारे हैं नजरों से तूने क्या पिला दिया साकी …और पढ़ें

द्वारा:kumar atul
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

1 »

1

काश! वो ट्रेन गाजियाबाद रुकती और वो मिल जाती

26 September, 20149 प्रतिक्रियाएँ »

“हैलो, मैं कल जा रही हूं। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से ट्रेन है। शाम 5:20 डिपार्चर टाइम है। एस 6, सीट नंबर 20। आओगे न? छोड़ने कौन आ रहा है? ब्वॉयफ्रेंड। कब तक छोड़ेगा? ट्रेन चलने तक। फिर? मैं वहां क्या करूंगा? नहीं, तुम आना। ठीक है, आऊंगा। अच्छा सुनो, मेरे लिए चाभी वाली गुड़िया …और पढ़ें

टॉपिक:कला

प्रतिक्रिया:

9 »

garba

क्या आपने देखे हैं गरबा में राक्षस

25 September, 20141 प्रतिक्रिया »

गुजरात में एक सूफी इमाम  का  कहना है कि कि गरबा में राक्षस आते हैं। ये वही इमाम हैं जो कभी नरेंद्र मोदी को मंच पर टोपी पहनाने  की कोशिश के चलते चर्चित हुए थे। तब उनके जो भी इरादे रहे हों लेकिन इस बार गरबा नृत्यों पर उनकी टिप्पणी बेतुकी और समाज के एक …और पढ़ें

द्वारा:वेद विलास

प्रतिक्रिया:

1 »

... और अमर उजाला ब्लॉग पढें

रीडर्स ब्लॉग

light

हांफती जिंदगी और त्योहार…!!

1 October, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

हांफती जिंदगी और त्योहार…!! काल व परिस्थिति के लिहाज से एक ही अवसर किस तरह विपरीत रुप धारण कर सकता है, इसका जीवंत उदाहरण हमारे तीज – त्योहार हैं। बचपन में त्योहारी आवश्यकताओं की न्यूनतम उपलब्धता सुनिश्चित न होते हुए भी दुर्गापूजा व दीपावली जैसे बड़े त्योहारों की पद्चाप हमारे अंदर अपूर्व हर्ष व उत्साह भर …और पढ़ें

द्वारा:tarkeshkumarojha
टॉपिक:समाज

प्रतिक्रिया:

0 »

gandhi

कृतज्ञ दुनिया २ अक्टूबर की

1 October, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

एक की लाठी सत्य अहिंसा एक मूर्ति सादगी की, दोनों ने ही अलख जगाई देश की खातिर मरने की . ……………………………………………………………….. जेल में जाते बापू बढ़कर सहते मार अहिंसा में , आखिर में आवाज़ बुलंद की कुछ करने या मरने की . ………………………………………………………………….. लाल बहादुर सेनानी थे गाँधी जी से थे प्रेरित ,   देश …और पढ़ें

प्रतिक्रिया:

0 »

encounter

क्या बनेंगे ये……………… ?

30 September, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

यूनिवर्सिटी के एक प्रोफ़ेसर ने अपने विद्यार्थियों को एक एसाइनमेंट दिया।  विषय था मुंबई   की धारावी झोपड़पट्टी में रहते 10 से 13 साल की उम्र के लड़कों के बारे में अध्यन करना और उनके घर की तथा सामाजिक परिस्थितियों की समीक्षा करके भविष्य में वे क्या बनेंगे, इसका अनुमान निकालना। कॉलेज विद्यार्थी काम में लग गए। …और पढ़ें

द्वारा:Vikram Ghosh
टॉपिक:अन्य

प्रतिक्रिया:

0 »

politician-cartoon-in-india

‘स्वर्ग ‘ छोड़ने की मजबूरी…!!

27 September, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

‘स्वर्ग ‘ छोड़ने की मजबूरी…!!  दुनिया का हर धर्म मरने के बाद स्वर्ग के अस्तित्व को मान्यता देता है। यानी स्वर्ग एक एेसी दुनिया है जिसके बाद कोई दुनिया नहीं है। लेकिन यदि किसी को यह स्वर्ग छोड़ने को कहा जाए तो उसकी स्थिति का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। ’ बंगला प्रेम’   के मरीज बनते जा …और पढ़ें

द्वारा:tarkeshkumarojha
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

0 »

download

चरम पर तकरार लेकिन सपना महाराष्ट्र में सरकार !

27 September, 2014कोई प्रतिक्रिया नहीं »

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में भाजपा-शिवसेना और कांग्रेस-एनसीपी में सियासी गठजोड़ में सीटों के बंटवारे को लेकर रार थमने का नाम नहीं ले रही है। हैरत की बात है कि महाराष्ट्र में 288 विधानसभा सीटों के लिए मतदान 15 अक्टूबर को होना है और किस्मत का फैसला 19 अक्टूबर को होगा, लेकिन भाजपा-शिवसेना …और पढ़ें

द्वारा:Deepak Tiwari
टॉपिक:राजनीति

प्रतिक्रिया:

0 »

... और रीडर्स ब्लॉग पढें